‘हॉकी फाइव्स’ खेल का रूख मोड़ सकता है, लेकिन पारंपरिक प्रारूप की जगह नहीं लेने देंगे : FIH – sports.punjabkesari.in

  • November 2, 2022

नई दिल्ली : हॉकी फाइव्स की लोकप्रियता बढऩे के साथ ही ऐसी आशंकाएं जतायी जा रही हैं कि यह 11 खिलाडिय़ों वाले पारंपरिक प्रारूप की जगह ले लेगा लेकिन इस खेल की वैश्विक संचालक एफआईएच ने आश्वासन दिया कि वह खेल की पारंपरिक शैली पर सबसे छोटे प्रारूप को प्राथमिकता नहीं देगा। उसने हालांकि कहा कि यह प्रारूप खेल की ‘विकास की शानदार कहानी’ की तरह है। इस प्रारूप में दोनों टीमों के मैदान में पांच-पांच खिलाड़ी होते हैं और मैच को 10-10 मिनट के दो हाफ में खेला जाता है। इसके मैदान का आकार भी नियमित हॉकी मैदान से छोटा होता है।
लुसाने में खेल के इस प्रारूप में भारतीय पुरुष टीम की सफलता के बाद भारतीय हॉकी बिरादरी को भी लगता है कि छोटा प्रारूप युवाओं को आकर्षित करेगा। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी थिएरी वेल ने कहा कि खेल को और लोकप्रिय बनाने के लिए हॉकी फाइव्स को पारंपरिक प्रारूप के साथ जोड़ा जा रहा है।
वेल ने कहा कि हॉकी फाइव्स खेल के पारंपरिक प्रारूप में एक और विकल्प है। हम हॉकी की लोकप्रियता बढ़ाना चाहते हैं और हॉकी फाइव्स इसमें हमारी मदद कर सकता है। उन्होंने कहा कि हम इस बात को लेकर आशान्वित हैं कि हॉकी फाइव्स से आने वाले वर्षों में खेल को काफी फायदा होगा। हम हालांकि खेल के पारंपरिक प्रारूप की कीमत पर हॉकी फाइव्स को हावी नहीं होने देंगे। हम कभी ऐसा नहीं होने देंगे। 
 

source