खेल जगत को यूपी के इस जिले से है बड़ी उम्मीद एशियन गेम्स 2022 के लिए तीन बेटियों का हो सकता है चयन.. – दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

  • November 2, 2022

Bareilly Girls in Sports कोरोना संक्रमण काल में जब लोग उम्मीद की किरण खोज रहे थे जिले की सेपकटाकरा खिलाड़ी उम्मीदों का सूरज लेकर प्रैक्टिस कर रही थीं। सेपकटाकरा के अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में देश का प्रतिनिधित्व करने का जज्बा लेकर मैदान में डटी थीं।

बरेली, जेएनएन। Bareilly Girls in Sports : कोरोना संक्रमण काल में जब लोग उम्मीद की किरण खोज रहे थे, जिले की सेपकटाकरा खिलाड़ी उम्मीदों का सूरज लेकर प्रैक्टिस कर रही थीं। सेपकटाकरा के अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में देश का प्रतिनिधित्व करने का जज्बा लेकर मैदान में डटी थीं। शहर की तीन बेटियों का चयन गोवा में चल रहे प्रैक्टिस कैंप के लिए हुआ है, जिसमें चीन में होने वाले एशियन गेम्स 2022 की टीम का चयन किया जाएगा। ये बेटियां 20 दिसंबर 2021 से 29 मार्च 2022 तक गोवा में आयोजित होने वाले खेल में पसीना बहा रही हैं। उम्मीद है कि ये बेटियां 2022 में एशियन गेम्स में देश का तिरंगा फहराएंगीं।

डॉली बोलीं, इस बार जीतकर आएंगे हम : शहर में कैंट के सदर बाजार की रहने वाली डाली ने संघर्ष के सफर से सफलता का स्वाद चखा है। नौ-भाई बहन की परवरिश करने वाली मां ने यूं तो बेटी को आगे बढ़ाने में कोई कमी नहीं रखी लेकिन पति के गुजरने के बाद गृहस्थी को चलाना ही कठिन था। मुश्किल हालात में डॉली श्रीवास्तव ने अपने खेल को निखारा और टीम में स्थान पाया। टेकोंग खेलने वाली डॉली ने बताया कि वह सेपकटाकरा 2009 से खेल रही हैं। उन्होंने सात बार विश्व चैंपियनशिप खेली है। एशियन गेम्स दो बार और बीच एशियन गेम्स एक बार खेला है, जिसमें ब्रांज मैडल भी जीता है। यही नहीं, डॉली ने विश्व चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल और ब्रांज मेडल भी जीते हैं। साउथ एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीता है। अब वह चीन में होने एशियन गेम्स की तैयारियों के लिए गोवा में चल रहे कैंप में प्रशिक्षण ले रही हैं।

युवा जोश स्ट्राइकर हिना को टीम में चयन की उम्मीद : मैदान पर कड़ी मेहनत, मन में टीम में चयनित होने का जज्बा लेकर उतरने वाली हिना का युवा जोश नए साल में नए रंग दिखाएगा। कैट के ठिरिया इलाके में रहने वाली हिना खान के एक बहन और दो भाई हैं। हिना ने वर्ष 2012-13 सेपकटाकरा खेलना शुरू किया था। कुछ ही साल में हिना का अच्छा खेल कोच और चयनकर्ताओं की नजर में आ गया। जिले और फिर राज्य स्तरीय टीमों में चयन के बाद हिना ने वर्ष 2021 में अपने खेल से खासा प्रभावित किया। यही वजह रही है कि उसका चयन पहले सीनियर कैंप में हो गया। इससे पहले वह जूनियर कैंप तीन बार कर चुकी हैं। साथ ही राष्ट्रीय स्तर के मुकाबले भी खेल चुकी है। स्ट्राइकर हिना ने कहा कि उनकी प्रैक्टिस बहुत हार्ड चल रही है। इससे पहले भी साइ सेंटर में भी कड़ी मेहनत की है।

मनीषा के अनुभव के तरकस से निकलेगा सफलता का तीर : सेपकटाकरा को जानने वाले लोगों के लिए मनीषा कुमारी पहचाना हुआ नाम हैं। बरेली के धोबी मोहल्ला की निवासी मनीषा कुमारी ने वर्ष 2014 और वर्ष 2018 में एशियन गेम्स में प्रतिभाग किया। वर्ष 2013 से वर्ष 2020 तक लगातार वर्ल्ड चैंपियनशिप खेली, जिसमें एक बार सिल्वर मेडल लिया और दो बार ब्रांज मेडल जीता। सेपकटाकरा में फीडर मनीषा का चयन भी गोवा में हो रहे कैंप में चयन हुआ है। उम्मीद है कि मनीषा के अनुभव के तरकस से इस बार एशियन गेम्स में सफलता का तीर निकलेगा। दो भाई और एक बहन समेत परिवार में आठ सदस्य हैं। उनका कहना है कि सभी ने सपोर्ट किया है। मनीषा कहती हैं कि कोरोना काल में भी हम लोगों दो-दो बार जांच कराई और फिर भी प्रैक्टिस जारी रखी। कहा है कि उम्मीद है कि हम लोग मेडल लेकर आएंगे। इसके लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

भारत
बांग्लादेश
खेल जारी है
Jagran Play eSports Tournament
Copyright © 2022 Jagran Prakashan Limited.

source

yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo yglo aglos aglos aglos aglos aglos aglos aglos aglos aglos